धर्म चक्र मंत्र साधना के विशिष्ट अनुभव

धर्मचक्र मंत्र साधना के विशिष्ट अनुभव
————————————————-

1.

अरिहंत प्रभु और सभी देवी देवता की कृपा से और आपके आशीर्वाद और मार्ग दर्शन से साधना निर्विघ्न पूर्ण हुई . साधना पहली बार की थी . बहुत ही आनंद और प्रसन्ता पूर्वक सम्पूर्ण हुई . पहले भी कई अनुभव हुए और आज भी मुनीसुव्रतस्वामी और गाणी पीठ यक्ष देव के दर्शन हुए और सीधे हाथ में गर्माहट महसूस हुई और पुरा शरीर झूलने लगा .
प्रणाम और अनुमोदना ….

– दिल्ली

******
2.

Abhi uthi hu aur aaisa laga samkit dev devi mere ghar khana kha rahe hai aur black magic wala jupda frame jal raha hai…… Meri kaki sasu bhi dikhai di….

-Mumbai

*********
3.

प्रभू के आशीर्वाद से आज साधना निरविघन सम्पूर्ण हुई|
साधना के चोथै दिन जो चमत्कार हुआ , हम अनहोनी से बच गऐ| आपको लक्षिता ने बताया |

आपका खूब आभार की एक के बाद एक दो साधना करने का लाभ मिला|

दोनो साधना में खूब आनंद आया
आगे और साधना हो तो करना चाहूंगी|

-कोलकाता

**********
4.

Sir… ye mantra jaap karte samay kai baar bahut khichhav mahsus hua… tab mantra jaap ke alava koi vichar nahi aisi sthiti automatic aa jati thi… aagya chakra aur sahstrar chakra pe bahut baar khichhav mahsus hua… ye dono chakro pe vishesh spandan force aata hua lag raha tha… jaap purn hone ke baad bhi jaap purn karne ko irchha nahi hoti thi.. mala side me rakhkar jaap fir se chalu ho jata… aaj 2 mala ginne ke sath lagbhag 50 se 60 minute tak jaap hua… parmatma ki krupa aparampar hai… iska anubhav aapne sab ko karwaya…hamne koi bahut archhe karm kiye honge ki aap jaise sadhak margdarshak mile… aap ka margdarshan aur ashirwaad sada milta rahe…???
– Surat

***********
5.

Aapke aashirwad se ye sadna bhi ache se hui.aage aap marg darshan karte rahna .iske liye me aapki hamesha aabhari rahugi?

-Bangalore

*************
6.

आपके बारे में क्या लिखूँ कोई शब्द ही नहीं आरहे है आपके लिए धन्यवाद तो बहुत छोटा शब्द है सबसे पहले आपने हमे अरिहंत परमात्मा से जोडा आपके आशीर्वाद से हमारे भाव जागे हमने परमात्मा को अपने घर मंदिर में विराजमान किया आपके मार्गदर्शन से हमने शान्ति नाथ भगवान की आराधना की फिर अभी धर्म चक्र की साधना की इसका सबसे बड़ा फायदा ये हुआ कि मेरे मन को बहुत शान्ति मिली असीम आनन्द की प्राप्ति हुई उसे शब्दों में नहीं बता सकता साधना के समय बहुत कुछ देखा अपने आप को राजा? के रूप मे देखा साक्षात नाकोडा ??जी के दर्शन हुए कभी हिरण तो कभी हंसो का जोडा नजर आया बहुत सुन्दर मंदिर का देखना फिर नाग देवता ?का घर पर आकर दर्शन देना इसी दोरान कोमल का ऐक्सीडेंट होना पर एक खरोंच भी नही आना हमें धर्म पर ओर मजबूत करता है ऐसा लगता है जैसे धर्म चक्र हमारे चारो तरफ बन गया हो आप इसी तरह साधना करवाते रहे अपना आशीर्वाद सदा हम पर बनाए रखे ?
– उदयपुर

**********
7.

आज धर्मचक्रमंत्र जाप करते हुए लक्ष्मी देवी देखी उन्होने क्हा मैं खाली हो चुकी हूँ लेकिन तुम कभी खाली नही होगे उनके पास कलश भी नही था उसके बाद साथ ही मे फिर दिखी उनके पास रहे हुए कलश मे से साफ जल काफी मात्रा मे निकल रहा था जो मेरे उपर गिर रहा था
– जोधपुर
**********

8.

Aaj shanti aur mangal path ka chamatkaar
Humare samne uncle ko covid 19ke waham ke karam reports nikaalne ke liye hospital addmit kiya gaya sab floor pe date hue the aapne shanti aur mangal path diya tha vo unko bheja mene bhabhi group ke sadaya bhi he… Aaj unka report negative aaya to relax he abb?

Mene inhone itne saalo me pahli baar sadhana saath ke 12din tak

Pahli baar shanti se hui pahle ek din me bhaut bada jagda ho jata… Bikaner ke aadiswer dada ke darshan kai tirth ke darshan hue?
– surat

*********

9.
आज जाप के समय समवशरण में परमात्मा के चारो और घुमघुमकर नृत्य किया। फिर मैंने(इन्द्र रूप में) बाकी देवताओं जो कि समवशरण के चारो और नृत्य कर रहे थे उनको भी ऊपर परमात्मा के पास नृत्य करने के लिए बुलाया। जब वो आने लगे तो मैंने देखा कि वो आते ही जा रहे थे। और सब मेरे पीछे पीछे परमात्मा के चारो और घूम घूमकर नृत्य करने लगे। बहुत आनंद आया।

**********
10.

सर साधना बहोत अच्छे से संपन्न हुई।सर आज जप के समये ये फील हो रहा था की जो भी यह जप कर रहे है आप उनके साथ अप्रत्यक्ष रुप से साथ है??आपकी बहोत बहोत अनुमोदना इतना भव्य,भक्तिपुर्ण मंत्र हमे आपने दिया??
– औरंगाबाद

*********

11.

आज धर्मचक्र मंत्र जाप के समय प्रथम माला गिनते समय स्वर्ण स्तंभ दिखे साथ ही मेरी आंखों से अश्रुधारा बहने लगी। मन भर आया। लगा कि शायद आज का जाप नहीं कर पाउंगी। प्रथम माला उच्चारण में करनी थी। मुंह से शब्द उच्चारण नहीं हो पा रहे थे आवाज में कंपन हो रहा था। फिर कुछ देर बाद में जाप पूर्ण कर सकी।?

**********

12.

अंकल जी अभी जाप करते समय …पहली माला में मेरा दाँया हाथ एकदम भारी लगने लगा बस माला वाली उंगली चल रही बाकी पूरा भारी भारी हो गया …उसके बाद पहली और तीसरी माला में उच्चारण करते वक्त पेट में नाभि की जगह पर अंदर की तरफ बहुत तेज जलने लगा जैसे आग लगी हो अंदर ।
और दाईं तरफ से बहुत तेज सर दर्द हुआ
मौन वाली माला में सब दर्द नॉर्मल हो गया ।

मौन से गिनते वक्त आंखे भारी होने लगी ऐसा लगा जैसे नींद आ गई तभी अचानक किसी ने जगा दिया ।
मैं हिल गई पूरी ?

आज ये ऐसा अनुभव पहली बार हुआ ??
बहुत बहुत धन्यवाद अंकल जी ?? आपने मुझे साधना के लायक समझा क्योंकि मैं खुद को इस योग्य नहीं समझती थी ?

– मंदसौर

********

13.

aaj sir mene…Aadinath parmatam aur….shankheshwar dada aur…antriksh parshwanth aur…Simdhvara swami aur…ajit nath bhgvan ko…khub badi partima ko..bahot bharvadar gulab vala..hare chadaye …bahot gold flower se…pusp vrusti ki…aur ghar ke mandir ji me..khub white colour ke flower se pura sihasan bhar gaya…aise mere bhav aaye the…?
– Navsari

********
14.

Thank you so much sir 14 days
ki sadhana nirvidhna puri ho gayi …

Ye meri first ever sadhna thi …

Bohat vibrationsss ho rahe the
samkit dev devi ke …

Muje to bhagwan ji hamesha bal swarup mei hi dikhe …. jesse ek mom apne bache ki care karti hai vesse hi … chammar se mei dance kar rahi hu …
Bohat kuch ..
Thank you so much
– Mumbai

अधिकतर साधकों को भी अनुभव हुवे हैं
पर वो लिखने में असमर्थ हैं.

? महावीर मेरा पंथ ?
Jainmantras.com

More Stories
मंत्र दीक्षा की आवश्यकता-1
error: Content is protected !!