जैन स्तोत्र और सूत्र

mati gyan and shrut gyan jainmantras

“मति-ज्ञान” और “श्रुत-ज्ञान”

"मति-ज्ञान" के बिना "श्रुत-ज्ञान" "अधूरा" है और "श्रुत ज्ञान" के बिना "मति-ज्ञान" "अधूरा" है. वर्तमान में ये दो ज्ञान - मति ज्ञान और श्रुत ज्ञान, अभी भी सम्पूर्ण...
dev devi ke mantra kese ho jainmantras

देव-देवी के सूत्र, मंत्र या स्तोत्र कैसे हों?

किसी भी देव-देवी का सूत्र (SUTRA) सबसे छोटा होता है, वही सबसे जल्दी प्रभावशाली होता है. उदाहरण के तौर पर "जं किंचि" सूत्र को ही ले लें. इस...
rishabhdev bhagwan, jainmantras, jainism, jains

भगवान् ऋषभदेव के जन्म के समय इंद्र द्वारा की गयी स्तुति

भगवान् ऋषभदेव के जन्म के समय इंद्र द्वारा की गयी स्तुति : हे तीर्थनाथ! हे जगत को सनाथ करनेवाले, हे कृपारस के समुद्र, आपको नमस्कार करता हूँ. हे नाथ! जिस...
stotra din me sirf ek bar padhe, jainmantras, jains, jainism

स्तोत्र दिन में सिर्फ एक बार पढ़ें

स्तोत्र दिन में सिर्फ एक बार पढ़ें  कुछ लोग एक ही स्तोत्र दिन में कई बार पढ़ते हैं. जैसे भक्तामर : 3 बार ऋषिमण्डल : 3...
Ghantakarna Mahaveer

श्री घंटाकर्ण महावीर का अति प्रभावशाली स्तोत्र

श्री घंटाकर्ण महावीर का अति  प्रभावशाली  स्तोत्र: श्री घंटाकर्ण महावीर के अति  प्रभावशाली  स्तोत्र को एकदम सही तरीके से पढ़ना हर किसी के बस की बात...
grah dosh nivaran by jainmantras, jains, jainism

ग्रह-दोष निवारण

"जन्म कुंडली" से "भविष्य" जानना सभी को "अच्छा" लगता है, भले ही "भविष्य" अच्छा ना हो. CRB ग्रुप के नाम से फाइनेंस कंपनी चलाने वाले...
Namaskar aur ashirwad

“नमुत्थुणं” महिमा

जीवन में हर प्रकार की १. समृद्धि, २. शांति, ३. मान-सम्मान, ४. जिन भक्ति और ५. सम्यक्त्त्व "प्राप्त" करने के लिए रोज "नमुत्थुणं" का एक पाठ करना "पर्याप्त" है.   विशेष : नमुत्थुणं का...

“अन्नत्थ “प्रतिज्ञासूत्र है.

प्रतिज्ञा वही ले सकता है जो उसे पूरी करने का "आत्म-बल" रखता हो, हौंसला रखता हो किसी भी कीमत पर उस प्रतिज्ञा को  निभाने का! "भीष्म-पितामह"...

सबसे सरल जैन तरीका समृद्धि पाने का

सबसे सरल तरीका समृद्धि पाने का : (जिन्हें मंदिर विधि नहीं आती है) पहले मंदिर में प्रवेश करें और फिर नीचे लिखी स्तुति बड़े भाव से...

मनुष्य क्या नहीं कर सकता !

सभी की आत्मा में अनंत शक्ति  है - मनुष्य भव में ही इसका विराट स्वरुप प्रकट होता है. मनुष्य ही "यम, नियम और आसन" की...
error: Content is protected !!