“धर्म” संकट

जब जब कोई ये कहता है की अपने  "धर्म" पर संकट आ गया है उसी समय ये समझ लेना चाहिए कि संकट धर्म पर नहीं बल्कि उनके "सम्प्रदाय" पर...

धन्य जैन धर्म

धन्य जैन धर्म : ये फोटो किसी दुल्हन की नहीं जो सोलह श्रृंगार किये लग्न की वेदी पर जाने के लिए तैयार है   "मोक्ष" रुपी "वर" को...

दादा भगवान और “अक्रम” विज्ञान

दादा भगवान ( मूल नाम : अम्बालाल पटेल) जिन्होंने "अक्रम विज्ञान" (जय सच्चिदानंद संघ) की स्थापना की, उन्हें सूरत के रेलवे स्टेशन पर "आत्म-ज्ञान" ("सेल्फ-रेअलिज़ेशन") आज से लगभग ५५...

बाहुबली

सवेरे प्रतिक्रमण के समय बोली जाने वाली सज्झाय "भरहेसर बाहुबली अभयकुमारो अ ढंढण कुमारो" इस सज्झाय में १०० उत्कृष्ट आत्माओं का वर्णन है. सज्झाय का मतलब स्वध्याय है. इसे मात्र...

अवन्ति पार्श्वनाथ

"प्रधानम् सर्व धर्माणाम् जैनम् जयति शासनम्" कभी विचार किया है कि कौनसी ऐसी बात है जिसके कारण जैन धर्म सब धर्मों में प्रधान है. उत्तर जानने के लिए मेरी अन्य...

आपका अगला जन्म कैसा होगा?

यदि आप अपने "घर" से मोह रखते हो, तो अगले जन्म में उसी घर में पितरजी या अन्य जानवर या पक्षी (घर के अंदर या पास...

जैन मंदिरों में “भव्य” और “प्राचीन” प्रतिमाएं

जैन मंदिरों मे जितनी "भव्य" और "प्राचीन" प्रतिमाएं हैं, उतनी संसार के अन्य किसी धर्म की नहीं हैं. क्या ये आश्चर्य नहीं है कि जैनी होते...

प्रभु दर्शन सुख सम्पदा, प्रभु दर्शन नव निध

"प्रभु दर्शन सुख सम्पदा, प्रभु दर्शन नव निध प्रभु दर्शन थी पामिये, सकल पदारथ सिद्ध ||" अत्यंत अहोभाव से श्री अरिहंत के दर्शन करने मात्र से १. सुख...

श्री आदिनाथ भगवान का उत्कृष्ट कुल

श्री आदिनाथ भगवान का उत्कृष्ट कुल : १. माता मरुदेवी वनस्पतिजीव में उत्पन्न होकर सीधे मनुष्य भव में आई और इस अवसर्पिणी काल में पहली मोक्षगामी बनी. २. पुत्र भरत...