सवेरे प्रतिक्रमण के समय

बोली जाने वाली सज्झाय

“भरहेसर बाहुबली

अभयकुमारो अ ढंढण कुमारो”

इस सज्झाय में १०० उत्कृष्ट आत्माओं का वर्णन है.

सज्झाय का मतलब स्वध्याय है.

इसे मात्र बोलना नहीं है,

इन आत्माओं के बारे में चिंतन करना है.

 

More Stories
mallinath bhagvan
नमस्कार और आशीर्वाद – 3
error: Content is protected !!