श्री उवसग्गहरं महाप्रभाविक स्तोत्र – अर्थ एवं प्रभाव : भाग -5

श्री उवसग्गहरं महाप्रभाविक स्तोत्र

तुह सम्मत्ते लद्धे, चिंतामणि कप्प पायवब्भहिए |
पावंति अविग्घेणं, जीवा अयरा मरं ठाणम् || ४ ||

श्री पार्श्वनाथ भगवान का नाम “चिंतामणि रत्न” के समान ही नहीं
बल्कि कल्पतरु जैसा है…..
और तो और कल्पतरु जैसा ही नहीं….उससे भी बहुत अधिक है!

 

कैसे?

“चिंतामणि रत्न” के समान का अर्थ है “जो मन में इच्छा हो, वो प्राप्त होता है”
(किसी को कहने की आवश्यकता नहीं है)

यहाँ पर ज्यादातर लोग सहमत नहीं होंगे क्योंकि
उनका अनुभव “उवसग्गहरं” गुणने के बाद भी इतना अच्छा नहीं रहा है.

पर जैसा कि पहली पोस्ट में कहा कि
ये मात्र “उपसर्ग” हरने वाला स्तोत्र ही नहीं है
जैसा कि आज तक समझा जाता रहा है.
यदि आपने ऐसा समझा है
तो आपने ही इस स्तोत्र की “लिमिटेशन” तय कर रखी है,
इसमें “मंत्र” का कोई दोष नहीं है.

 

“मंत्र” होता है “मन” से……

“जितना बड़ा भाव, उतना बड़ा रिजल्ट.”

अब आगे देखिये, श्री भद्रबाहु स्वामीजी के श्री पार्श्वनाथ भगवान के प्रति भाव!

मूल बात संघ पर आये उपद्रव की थी.
वो तो उन्होंने मात्र पहली गाथा से ही दूर कर दिया
और उससे भी विशेष पहली गाथा के पहले ही शब्द
“उवसग्गहरं” से!

 

आप  “उवसग्ग”  शब्द ऐसे बोले मानो आप उसपर “हथोड़ा” चला  रहे हों और “हरं” शब्द बोलने के साथ ऐसा “फील” करें मानो वो उपसर्ग “चकनाचूर” हो गया हो. परन्तु “पासं पासं  वंदामि “ शब्द आते ही आपका सर एकदम “झुक” जाना चाहिए. कुछ महीनों में आपके मन में ये विश्वास आयेगा कि आपके शब्दों में ऐसा करने का “दम” है,  उसी दिन से आप के ऊपर कोई बाधा नहीं आ पाएगी.

जब तक आप ऐसा ना कर पाये, तब तक उसे “ट्रेनिंग पीरियड” समझें. मंत्र जब तक “सिद्ध” नहीं होता है, तब तक वो “व्यक्ति” ट्रेनिंग में होता है.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...