सूत्र संवेदना

जैन धर्म के सूत्रों की “मसालेदार” वर्तमान गुजराती ग्रंथावली है :

सूत्र संवेदना (सात भाग).

एक आचार्य के समकक्ष साध्वीजी श्री चंद्राननाश्रीजी (२०० से अधिक शिष्या-प्रशिष्याऐं) की शिष्या साध्वीजी प्रशमिताश्री जी ने “सूत्र संवेदना” ७ भागों में तैयार की है.

 

(अब तक छ: संस्करण छप गए हैं, अभी ये “प्रेस” में है यानि ये सेट अभी उपलब्ध नहीं है, ऐसी जानकारी मिली है ).

१. सामायिक के सूत्र : २८८ पेज
२. चैत्यवंदन सूत्र : ३१० पेज
३. प्रतिक्रमण के सूत्र : १७० पेज
४. वन्दित्तु सूत्र : २५८ पेज
५. आयरिय उवज्झाय  से सकल तीर्थ तक के सूत्र : २५८ पेज
६. प्रतिक्रमण,पौषध और पच्चक्खान के सूत्र, विधि और उनके हेतु : २३६ पेज
७. पाक्षिक प्रतिक्रमण सूत्र : ४५८ पेज

कुल १९७८ पेज

मूल्य : ५०० रुपये मात्र (ये ज्ञान ५ लाख (करोड़ भी) रुपये खर्च करने पर भी नहीं मिलेगा)

 

प्राप्तिस्थान के फ़ोन/मोबाइल नंबर :
अहमदाबाद:
079-266 20 920
079- 221 653 46
9327004353
मुंबई :
022-2388 3420
98200 44882
98200 81124
सूरत :
98251 40212
93768 11702
98251 28311
98251 42661

फोटो :  साध्वीजी श्री चंद्राननाश्रीजी

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...