अद्भुत योगीसम्राट :श्री शांतिगुरुदेव-1

saraswati

सर्वप्रथम माँ सरस्वती को प्रणाम करके  अद्भुत योगीसम्राट श्री शांतिगुरुदेव के “प्रकट” जीवन के  बारे में “थोड़ी” सी  जानकारी देना चाहता हूँ,

श्री शांतिगुरुदेव का “अप्रकट स्वरुप” अभी तक कोई भी “ध्यान” लगाकर भी जान नहीं पाया है.

उन्हें “याद” करते ही “आँखें” भीग जाती हैं इसलिए उनकी “भक्ति-भजन-संध्या” में बैठना भी मेरे लिए असंभव है.

उनका चरित्र लिखा नहीं जा सकेगा क्योंकि वो अत्यंत “रहस्यमयी” है, फिर भी उन्होंने जो कहा, उसे
जान कर वैसा जीवन जी सकते हैं.

तपगच्छाचार्य श्रीमद् विजय वल्लभसूरी जी ने तो यहाँ तक कहा कि जैन साधुओं में श्री हीरविजयजी (अकबर प्रतिबोधक) के बाद किसी के पास जाना हो तो,वे है श्री शांतिविजयसूरीश्वर जी!

श्री शांतिगुरुदेव को  हर जैन सम्प्रदाय का व्यक्ति ही नहीं पूजता बल्कि हर कौम का व्यक्ति पूजता है.
जैन – श्वेताम्बर-दिगंबर, मूर्तिपूजक-साधुमार्गी, अजैन भी!
जंगल के सिंह भी उनके पास मानो  “शान्ति” पाने के लिए आते थे.

उनका नाम था “शान्ति” और सभी को कहते थे : ॐ शांति.

गुरुदेव के प्रवचन में अक्सर भगवान महावीर के उपदेशों का जिक्र होता था. अपने देह त्याग के दो घंटे पहले भी भगवान महावीर स्वामी के निर्वाण समय की चर्चा करते हुवे उपदेश देने लगे कि कोई भी अपनी आयुष्य का एक पल भी नहीं बढ़ा सकता. यही उनका आखिरी उपदेश था.

भगवान महावीर उग्र विहारी थे और एक दिन में दो योजन (एक योजन = 48 मील  यानि कुल 154 किलोमीटर से भी अधिक) विहार करते थे. श्री शांतिगुरुदेव ने भी इसी तरह उग्र विहार केसरियाजी की रक्षा के लिए किये जब उन्होंने मार्कण्डेशर से मंदार गाँव (उदयपुर)  125 मील (यानि की 200 किलोमीटर से भी अधिक ) की दूरी मात्र एक दिन में तय की थी.

“श्रमण परंपरा और इतिहास” से पता चलता है की भगवान महावीर की छद्मावस्था  (जब तक “केवलज्ञान” प्राप्त ना हो तब तक जीव “छद्मस्थ” कहा जाता है)आबू पर्वत पर मुख्य  रूप से रही और साधना निर्जन स्थान, जंगलों, सांपों के बिल और वृक्षों के नीचे  की और अनेक उपसर्ग सहे. श्री शांतिगुरु का साधना स्थल मुख्य  रूप से आबू ही रहा और उन्होंने भी  साधना निर्जन स्थान, जंगलों, सांपों के बिल और वृक्षों के नीचे किये और उपसर्ग भी सहे.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...