Namaskar aur ashirwad

“नमुत्थुणं” महिमा

जीवन में हर प्रकार की
१. समृद्धि,
२. शांति,
३. मान-सम्मान,
४. जिन भक्ति और
५. सम्यक्त्त्व
“प्राप्त” करने के लिए रोज
“नमुत्थुणं” का एक पाठ करना
“पर्याप्त” है.

 

विशेष :
नमुत्थुणं का पाठ जिन मंदिर या
अपने घर-मंदिर में किसी भी
तीर्थंकर की प्रतिमा (मूर्ति)
के सामने करें.

 

इससे पहले मन वचन और काया की शुद्धि के लिए
३ “नवकार गिने.”
मेरा स्व-अनुभव है.

नमुत्थुणं के बारे में jainmantras.com में
पहले पब्लिश हुई अन्य पोस्ट भी जरूर पढ़ें.

More Stories
जियो और जीने दो!
error: Content is protected !!