“खुद” की “बली” से बचो !

हे प्रभो, शास्त्रों में कथन आता है कि
• देव मरे, एकेंद्रिय होय.
यानी कि देव गति पाना इतना खतरनाक है कि वह हमारी बड़ी मुश्किल से पायी त्रस पर्याय का ही नाश कर देती है.
अगर कोई इस सच्चाई को कोई सांसारिक उदाहरण से तुलना करना करना चाहे, तो बस एक ही द्रष्टान्त से इसकी तुलना हो सकती है.
वह यह है कि जिस तरह किसी बकरे की बली देने से पूर्व उसे खूब खिलाया पिलाया जाता है,
फिर सजा-धजा कर बेंड-बाजे के साथ उसका जुलूस निकाला जाता है और फिर तिलक लगाकर उसका गला काट दिया जाता है;
उसी तरह इस देव भव में भी जीवों को खूब लौकिक सुख मिलता है और फिर सीधे उनकी त्रस पर्याय रुपी गर्दन को काटकर उन्हें एकेंद्रियपने में फेंक दिया जाता है.
सिर्फ और सिर्फ सम्यकद्रष्टि देवों को छोडकर अरबों-खरबों देवों में से कोई एकाध जीव ही इस दुर्गति को प्राप्त होने से बच पाता है.
अहो, ऐसा जानकर तो सभी लोगों को देवगति के नाम से ही कंपकंपी लगना चाहिये.
साथ ही आपको सोचना चाहिये कि कहीं आप भी ऐसे पापानुवर्ती पुण्य कर्म तो नहीं कर रहे हैं, जिनके कारण से गलती से ही सही, कहीं आपकी देव गति न बंध जाये?
फिर क्या होगा, यह आप सभी अब अच्छी तरह समझ सकते हैं.
अनादि काल से आज तक आप खुद की बली ही देते आरहे हैं, आज भी ऐसा ही हो रहा है और अब आगे ऐसा न हो, इसके लिए आपको बहुत गम्भीर विचार करना चाहिये.
जो जीव इस संसार में मात्र वीतरागीपने की बातें सोच रहा हो, आत्म प्राप्ति की चिंता कर रहा हो, चर्चा कर रहा हो;
उसे ही बहुत उच्च कोटि का अतिशय पुण्य बंधता है,
जो देव भव तो दिलायेगा ही दिलायेगा,
अपितु नियम से उस को मोक्ष में ले जाकर उस का कल्याण करेगा ही करेगा.
देखो भाई, मुक्तिमार्ग के रास्ते में भक्ति-पूजा के कई स्थान आते हैं. उन को कार्यकारी मानकर वहां पर अटकना नहीं चाहिये,
बल्कि सहज भाव से वीतरागपने से भगवान की भक्ति-पूजा कर सिर्फ और सिर्फ अपने चैतन्य-आत्मा के ध्यान में ही आगे बढ़ जाना चाहिये.
अहो, ऐसा जानकर सब लोग अपने निज परमपद में ही चिर विश्राम करें, ऐसी मंगल भावना भाते हैं.
आप सभी से मेरा विनम्र निवेदन है कि अगर मेरे किसी भी लेख से आपको अपने अंदर जाने में सहायता मिलती हो, तो उसे सेव करके बार-बार पढ़ें;
विश्वास कीजिये कि इस तरह के चिन्तन-मनन से आपको आपके अनन्त गहराई में समाये निज-परमात्मा की हर बार नई-नई गहराइयों के दर्शन होंगे.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...