नवकार महामंत्र का विराट स्वरुप-6

jainmantras.com में “नवकार महामंत्र” के “विराट स्वरुप”  पर लिखना एक दु:साहस  ही है,
फिर भी लिखने से रोक नहीं पा  रहा.

जिस प्रकार एक बच्चा तोतली भाषा में अपनी माँ को वो समझा देता है जो उसे चाहिए (और कोई उसकी भाषा को  समझ नहीं पाता ). उसकी तोतली भाषा  “माँ” समझ भी जाती है कि उसे क्या चाहिए और “ख़ुशी” से दे भी देती है. उसी प्रकार ये प्रयास समझना.

 

एक उच्च कोटि के साधक को भी “भगवान” बड़ी साधना के बाद दर्शन देते हैं, तो पापियों को तो दर्शन कहाँ से सुलभ होंगे?
फिर भी मुट्ठी भर जैनिओं ने लगभग हर गाँव में, जहाँ जहाँ वो बसे, कम से कम एक जैन मंदिर बनाया ताकि जहाँ भी वो जाएँ “भगवान” के रूप का दर्शनऔर स्तुति रोज कर सकें :-

दर्शनम् देवदेवस्य, दर्शनम् पाप नाशनम्,

दर्शनम् स्वर्गसोपानाम् , दर्शनम् मोक्ष साधनम् ||

 हम सभी में “सद्बुद्धि” “हरदम” रहे,  इसके लिए सभी पाठक “साक्षात” माँ सरस्वती को प्रणाम करके, एकदम चित्त लगाकर, आगे की पोस्ट पढ़ें जिससे हम सभी का “कल्याण” हो.

 

पहले नवकार महामंत्र का विराट स्वरुप- 1-5 पढ़ें.

पूर्वभूमिका:-

श्री मानतुंग सूरी श्री भक्तामर स्तोत्र की तीसरी गाथा में आदिनाथ भगवान को कहते हैं :
“बुध्द्या विनाsपि विभुधार्चित पाद पीठ…….. बालं विहाय जलसंस्थितमिन्दुबिम्ब”
मुझ में इतनी बुद्धि नहीं है कि मैं आपकी “स्तुति” कर सकूँ फिर भी  जिस प्रकार एक बालक “समुद्र” के विस्तार को अपने नन्हे हाथों को फैलाकर बताने की कोशिश करता है, वैसे ही मैं आपकी “स्तुति” करने का “प्रयास” कर रहा हूँ. 

 

गाथा  का  रहस्य :-

स्तुति करते समय श्री मानतुंगसुरी के मन के भाव ऐसे हो गए जैसे वो आदिनाथ भगवान से प्रत्यक्ष बात कर रहे हों!

(क्या हमें कभी ऐसा लगा है कि हम भगवान के पास ही बैठे हैं)?

“बच्चे” के रूप में आदिनाथ भगवान को इन्द्रों द्वारा “अभिषेक” करवाने के दृश्य को देखकर अति आनंदित हुवे. “बच्चे” के रूप में उनके “चमत्कृत रूप” को देखकर वो स्वयं को  “छोटा बच्चा” समझने लगे.

(फाइव स्टार्स होटल्स को देखकर लोग जो आनंद लेते हैं, वो तो इसके सामने  “minus marking” वाला है क्योंकि वहां तो  non-veg पकता है इसलिए वो वस्तुतः दुर्गति में ले जाने वाला है – जो जैन फाइव स्टार होटल्स में पार्टीज और शादियां कर रहे हैं, वो सावधान!).

 

हम जो भी उत्कृष्ट देखते हैं, क्या उसका वर्णन “शब्दों” में कर सकते हैं?
नहीं!

एक बच्चा दूसरे बच्चे को देख कर खुश होता है.
एक बड़ा भी एक बच्चे को देख कर खुश होता है.
जबकि उस बच्चे से बड़े को क्या मिलता है?
(हम हरदम “कुछ” प्राप्ति की “इच्छा” में लीन रहते हैं, इसलिए ये कहा है)
बड़े को बच्चे का आनंद लेना है, तो बच्चे जैसी भाषा में ही बात करनी होती है,
बुजुर्गों वाली भाषा में नहीं! 🙂

आगे नवकार महामंत्र का विराट स्वरुप- 7 पढ़ें.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...