ज्योतिष और जीवन मंत्र-2

श्री जिनदत्तसूरी ने 700 वर्ष पहले संस्कृत में “विवेक विलास” नामक ज्योतिष ग्रन्थ लिखा है. ज्योतिष के अलावा जीवन में माता-पिता, मृत्यु, सगे-सम्बन्धी के साथ रखने योग्य विवेक और  धंधे और पैसे की सुरक्षा के लिए क्या करना चाहिए, ये सब इस ग्रन्थ में बताया है.

उनका कहना है:

१. खोटी रीति से कमाया हुए धन का अंत में “नाश” होता है. (जिनको इस बात पर विश्वास न हो, वो स्वयं खोटी रीति से पैसा कमाना  चाहते हैं – श्री जिनदत्तसूरी से बढ़कर कोई “आप्त-पुरुष” इन सालों में नहीं हुआ – ओसवाल वंश की जातियों का उद्धार श्री जिनदत्तसूरी ने ही किया है – अब वो ही इस बात को ना मानें, तो वो “पिता” की “आज्ञा” को ही नहीं मानने वाले हैं – “धर्म” के मूल सिद्धांत कभी नहीं बदलते भले ही जमाना बदल गया हो ).

 

२. जहाँ मित्रता करने की “इच्छा” ना हो, वहीँ पैसे का व्यवहार करना चाहिए. (इसका मतलब ये नहीं है कि “शत्रु” से पैसे का व्यवहार करना चाहिए और आवश्यकता के समय “मित्र” की सहायता बिलकुल नहीं करनी चाहिए – परिस्थितियों को देखते हुवे उतनी सहायता तो अवश्य ही करनी चाहिए जितनी रकम हम “भूल” सकें).

३. “निर्धन” को कभी किसी की निंदा नहीं करनी चाहिए. (कुछ लोगों को पैसे वालों की निंदा करने में बड़ा आनंद आता है – उनका खा-पीकर भी उन्हें ही कोसते हैं, ऐसा शादी-विवाह के प्रसंग में देखने को बहुत मिलता है-वो ये भूल जाते हैं कि क्यों “लक्ष्मी” उस व्यक्ति पर ही प्रसन्न है और खुद पर नहीं).

 

४. सट्टे से कमाया हुआ धन – इसका  “कालापन” कभी नहीं जाता.  अंत में  कुल का सर्वनाश होता है. (अनुभव सिद्ध है).

५. जितना खुद के पास “धन” हो, “लोक-व्यवहार” उसी के अनुसार करना चाहिए अन्यथा व्यक्ति “खेंच” में रहता है. ब्लड प्रेशर, शुगर और हार्ट की बीमारियां इन्हीं कारणों से आती है.

६. जिसको “धन” की वृद्धि करनी है (किसको नहीं करनी है?), उसे पशु-पक्षिओं को कभी दुःख नहीं देना चाहिए. तिर्यंच होते हुवे भी वर्तमान (पंचम काल) में पक्षी सबसे अधिक सुखी हैं, उन्हें किसी की भी गुलामी नहीं करनी पड़ती.

७. ज्योतिषशास्त्र (खोटे ज्योतिषि इसमें शामिल नहीं हैं), सामुद्रिकशास्त्र (शरीर की बनावट को देख कर जानना), नीतिशास्त्र (जैसे चाणक्य-नीति) पर कभी “द्वेष” नहीं करना.

८. अपने कल्याण के लिए “महापुरुषों” के पास बैठना.

 

९. व्यवसाय से लाभ को चार भागों में बाँटना : १. बचत २. धार्मिक कार्यों में ३. भोग में और ४. कुटुंब के पोषण में. (आज बचत का “नाम” सबसे बाद में लिया जाता है, इतना उल्टा जीवन है और फिर भी हम अपने को जैनी कहते हैं).     

१०. पुत्री से खूब बड़ी उम्र के व्यक्ति को अपनी कन्या ना देना. (कीर्ति का नाश होता है और पुत्री भी सुखी नहीं रहती, भले ही खूब धनी हो – आजकल कुछ परिवारों में पुत्री का पिता  ये देखता है की लड़के वाले के पास खुद का “बड़ा” मकान है या नहीं, लड़के की क्या संगत  और “शौक” है, उसकी परवाह नहीं करता (खुद ही वैसा है, इसलिए ये बात “कॉमन” मानता है ).

 

११. पुराने “वाहन” पर नहीं जाना.

१२. नदी में एकाएक नहीं उतरना.

१३. जानवर से दस हाथ दूर रहना.

१४. जो व्यक्ति “लक्ष्मी” का “मद” करता है, उसे दूसरे भव में “लक्ष्मी” “मदद” नहीं करती.

१५. जो प्रसिद्धि के लिए “दान” करता है, उसे “व्यसनी” समझना.

बुद्धि सभी में होती है, विवेक ही नहीं होता इसलिए व्यक्ति भेड़-चाल को अपनाता है.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...