क्या “ज्योतिष” को “झुठलाया” जा सकता है?

ये बड़ा गंभीर प्रश्न है.
ज्योतिषियों के लिए तो बहुत गुस्सा आने  वाला भी.
क्योंकि कोई ये मानने के लिए तैयार नहीं होगा कि
ज्योतिष को झुठलाया जा सकता है.

 

सच में तो ज्योतिष सिर्फ “योग” की बात करता है.
गुरु वशिष्ठ ने भगवान के राज्याभिषेक का मुहूर्त्त निकाला
और राम को मिला वनवास!
और वो भी चौदह वर्ष का!
पिता की मृत्य का कारण भी बना!
राम के साथ सीता और लक्ष्मण को भी वनवास मिला.
निमित्त था : राज्याभिषेक का मुहूर्त्त!

 

आज तक किसी ज्योतिषी ने उस मुहूर्त्त में भूल निकालने का साहस नहीं किया.
गुरु वशिष्ठ से ऊपर कोई गुरु उस समय कोई नहीं था.

इसका मतलब कुछ बातें “ज्योतिष” से ऊपर होती हैं.
कुछ दिव्य पुरुष “काल” को भी इस प्रकार जीत लेते हैं
कि समय उन पर मार नहीं कर पाता.

शनि, राहु और मंगल दोष की बातें कर के आम आदमी को “डराया” ज्यादा गया है.
आदमी समय की मार से पहले से ही “डरा” हुआ जाता है, ज्योतिषी के पास.

 

जो व्यक्ति ज्योतिषी के पास “शौक” से जाता है अपना भविष्य जानने के लिए,
वो इतना “सीरियस” होता भी नहीं है, ज्योतिष की बात सुनकर.

आज से 25 वर्ष पहले एक ज्योतिषी ने कहा था :
आप जो सोचेंगे उसका मात्र 30% आपको मिलेगा.

मैंने कहा : ये तो बड़ी ख़ुशी की बात है!

उसने चकित होकर कहा: इसमें ख़ुशी की बात कहाँ से आई?
मैंने कन्फर्म करने के लिए पुछा: आपने कहा है मैं जो सोचूंगा उसका 30% प्रतिशत मिलेगा, है ना.
उसने कन्फर्म किया.

 

मैंने कहा : आपके बोलते ही मैंने सोचना 5 गुना ज्यादा कर दिया है. 🙂

जिस समस्या का निदान दुनिया में नहीं  होता है, तो भी लोग उसका “हल” (solution) निकालने की कोशिश करते हैं.
ज्योतिष खुद आने वाली समस्या बताता है. फिर निदान भी. भले ही वो पूरे तरीके से काम में ना पाते हों.
इससे मन में कम से कम ये तो नहीं रहता कि हमने कोशिश नहीं की.

ज्योतिष में सबसे महत्त्वपूर्ण है मंत्र विज्ञान.
कर्मकांडी पंडित “मंत्र” का ही तो सहारा लेता है.
1. बच्चे के जन्म के समय बोले जाते हैं मंत्र: (उस समय बच्चा भले ही रोता हो) 🙁
2. शादी के समय बोले जाते हैं मंत्र (सुनता कौन है) 🙂
3. घर के मुहूर्त्त के समय भी मंत्र बोले जाते हैं (पर हवन की गर्मी और धुंवे से हालत ख़राब हो जाती है, ऐसा सभी को लगता है).
4. व्यापार भी मुहूर्त्त देखकर ही शुरू किया जाता है
(और कइयों को तो 3 महीने भी नहीं लगते व्यापार को ताला मारने में).
ये सब कटु सत्य है.

 

जबकि सबसे बड़ा सत्य ये है कि जैन मंत्र नवकार से बड़ा कोई मंत्र नहीं है.
सामने रखो :पंचपमेष्ठी का यन्त्र,
बिछाओ आसन,
हाथ में लो माला,
और कहो :
जपो रे भाई महामंत्र नवकार
मंत्र बड़ो ही सुखदायी,
महिमा इसकी अपरम्पार,
मंत्र बड़ो ही सुखदायी,
(राग : चलो रे डोली उठाओ कहार…)

 

घर का हर व्यक्ति यदि रोज नवकार की एक माला गिनता है, उस घर में हर प्रकार का सुख और शांति रहती है. इतना सरल जैन धर्म है.

पर हमें तो रोज कुछ नया चाहिए….इसलिए जन्म से ही उपलब्ध नवकार ना गुण कर…. फुर्सत नहीं है का बहाना बनाकर …रोज नयी नयी मुसीबतें झेलते हैं…आखिर अपनी मर्जी से जीना भी तो मजे से कम नहीं है… 🙂

विशेष: अपनी शंका अवश्य लिखे, यथासंभव संतोषपूर्वक जवाब दिया जाएगा.  jainmantras.com  ज्योतिष के विरोध में नहीं है, पर ज्योतिष के नाम पर जिस तरह लोगों को डराया जाता है, उसके विरोध  में है.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...