सिर्फ जैन धर्म में ही इस बीज़ अक्षर का उपयोग हुआ है, अन्य किसी भी धर्म में नहीं है.