शत्रुंजय (पालीताणा) महिमा-1

श्री हेमचन्द्राचार्य जी ने भगवान आदिनाथ की स्तुति इस प्रकार की है :

“आदिमम् पृथिवीनाथ-मादिमम् निष्परिग्रहम्
आदिमम्  तीर्थनाथम् च, ऋषभस्वामिनं स्तुम: ||

प्रथम राजा, प्रथम मुनि और प्रथम तीर्थपरति-ऐसे श्री ऋषभस्वामी की स्तुति करता हूँ.

किसी भी “मंगल कार्य” की शुरुआत करने से पहले नवकार गिनने  के बाद ये स्तुति करें. उनके उत्कृष्ट कुल को भी याद करें. (उनके उत्कृष्ट कुल को जानने के लिए jainmantras.com की अन्य पोस्ट पढ़ें. -हमारा भी उनसे “सम्बन्ध” रहा है, हमारा “Direct Connection” भगवान महावीर से है और भगवान महावीर का सम्बन्ध भगवान आदिनाथ से रहा है. इस दृष्टिकोण से भी! ऐसा चिंतन  करें.  फिर देखो मन के भाव कितने ऊँचे होते हैं! आप अपने को धन्य समझने लगेंगे. दूसरे जितने भी जैन बंधू हैं वो भी “अपने” लगने लगेंगे. (अपने हैं ही).

१. श्री पुण्डरीक गणधर (ऋषभदेव के गणधर)  ने 1,25,000  श्लोक से “श्री  पालिताना तीर्थ महिमा” की थी.
२. श्री महावीर स्वामी की आज्ञा से श्री सुधर्मा स्वामीजी गणधर ने मनुष्यों की आयु कम जानकर इसे 24,000  श्लोक तक सीमित किया.
३. फिर शत्रुंजय तीर्थ का उद्धार करनेवाले श्री शिलादित्य राजा के आग्रह से, बौद्धों के मद को “स्याद्वाद” से जीतनेवाले, “राजगच्छ मंडन” श्री धनेश्वरसूरीजी ने “श्री शत्रुंजय माहात्म्य” वल्लभीपुर में रचा.
४. इसमें से भी “सारभूत” तत्त्व निकालकर “श्री शत्रुंजय माहात्म्य सार” का अनुवाद श्री कनकचन्द्रसूरीश्वरजी महाराज ने किया और उसका भी “संक्षिप्त (शार्ट) अनुवाद श्री वज्रसेनविजयजी ने किया है.

तीर्थ महिमा :
१. इस तीर्थ का “ध्यान” करने से 1000 पल्योपम जितना “कर्म” नाश होता है. ये आप “रोज” घर पर भी कर सकते हैं अन्यथा मंदिर में यदि श्री शत्रुंजय का पट्ट लगा है तो वहां रोज दर्शन कर सकते हैं. 

ध्यान करने के लिए आपको पूरा एकाग्रचित्त होकर तलहटी, बाबू निवास का मंदिर,……..भीम पोल…होते हुवे…आदिनाथ भगवान के मूल नायक तक पहुँच कर …..वहां नेवैद्य (प्रसाद) चढ़ाकर…चैत्यवंदन करना है…शत्रुंजय की भाव यात्रा करना है.
२. इस तीर्थ पर “अभिग्रह” धारण करने से 1,00,000 पल्योपम जितना “कर्म” नाश होता है.
३. इस तीर्थ की और चलने पर 1 सागरोपम के पापों का नाश होता है.
…..

Continued शत्रुंजय (पालीताणा) महिमा-2

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...