“प्रेम” बड़ा या “आदर” बड़ा?


“धर्म” के प्रति
“प्रेम” हो या “आदर?”
“प्रेम” बड़ा या “आदर” बड़ा?
पहले “आदर” होता है या “प्रेम?”

बहुत ही गंभीर बात है.

पुत्र का माता के प्रति “प्रेम” पहले या “आदर?”

एक माँ अपने पुत्र से क्या चाहती है?
“आदर” या “प्रेम?”

अब निश्चित करें कि
“धर्म” से “प्रेम” करना है
या उसका “आदर?”

किसी का आदर तो “मजबूरीवश” भी किया जाता है.
जैसे प्रजा किसी अफसर या मंत्री का आदर करती है
उसके ओहदे की वजह से.
प्रजा का उनसे वास्तविक प्रेम तो उस बिरले अफसर या मंत्री से ही होता है.
जो खुद जनता को चाहता हो, उनका भला चाहता हो.

जो “धर्म” हमारा कल्याण करे उससे प्रेम होना चाहिए या मात्रआदर?

ज्यादातर आदर तो दिखावे के लिए होता है.
जैसे कि किसी अफसर की हाज़री देते समय उसके प्रति आदर होता है.

पर्व दिवसों में हम धर्म के प्रति “आदर” करते हैं या प्रेम?

संवत्सरी का पर्व हमारे लिए आदरणीय है या अति प्रिय?

सामायिक या प्रतिक्रमण के समय काउसग्ग करना प्रिय है
या “जबरदस्ती?”
जबरदस्ती इसलिए कि उसके बिना
सामायिक या प्रतिक्रमण पूरा नहीं होता है.
और एक बार जो सामायिक ले ली तो पूरी तो करनी ही पड़ेगी.

प्रेम की पराकाष्ठा (उच्चतम स्थिति)
तीर्थंकर से प्रेम कर सकते हैं और उनका आदर भी
गुरु से प्रेम कर सकते हैं और उनका आदर भी
माता से प्रेम करते हैं (“कर सकने” की बात नहीं है)
उनका आदर भी.
ऊपर की तीनों बातों को एक बार “खुद” के लिए “चेक” कर लें.
अंतिम तथ्य:
खुद से प्रेम कर सकते हैं परन्तु खुद का आदर नहीं कर सकते.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...