पच्चक्खाण “ध्यान” की पहली सीढ़ी है.

ज्यादातर व्यक्तियों की ये “शिकायत” है की जैसे ही “ध्यान” में बैठते हैं कि “सारे ऊट-पटांग” विचार आने लगते हैं.
और वो “शिकायत” भी उनसे करते हैं तो स्वयं इस “बिमारी” के मरीज (patients) हैं. मतलब “दो बीमार” और दोनों को “शिकायत” एक ही! और खोजेंगे लगभग सभी ऐसे ही मिलेंगे.

क्या ध्यान करना इतना कठिन है?

जैन धर्म में एक भी बात ऐसी नहीं कही गयी जो करने में कठिन हो क्योंकि उसे “आत्मा” की  “अनंत” शक्ति का पता है.  फिर भी पच्चक्खाण (promise)  करने हों जो जैन धर्म ये कहता है कि – यथाशक्ति (As per your capacity)!

आज इस “यथाशक्ति” पर ही चिंतन करते हैं.

 

व्यवहार में यदि कोई किसी से कहे कि “आप धर्म में “थोड़ा” पैसा लगाओ.”
ये “थोड़ा” क्या है और वो “क्यों” कह रहा है?
क्योंकि  कहने वाला “जानता” है कि सुनने वाला “शायद” ही लगाएगा.

और यदि कोई किसी से कहे कि “आप धर्म में “थोड़ा-बहुत” पैसा   लगाओ.”
ये “थोड़ा-बहुत” क्या है और वो “क्यों” कह रहा है?
क्योंकि  कहने वाला जानता है कि सुनने वाला “थोड़ा” लगाएगा और “बहुत” बताएगा. “पट्ट” पर नाम आएगा या नहीं, इसका “भरोसा” भी उसे नहीं होता.

याद रहे बात “ध्यान” करने की चल रही है.
ये हमारा स्वभाव (आदत) है कि  हम  बात “किस” की चल रही होती है, और चलते चलते बात “किसी और की” करने लगते हैं. 🙂

 

प्रश्न:

जैनी छोटे छोटे पच्चक्खाण  करने की भी अनुमति क्यों देते हैं?

उत्तर:
असल में ये “Advertisement Compaign” है हमारे धर्म का! 🙂
आप आधे घंटे के लिए भी “पानी” पीने का त्याग कर सकते हैं.
इसे नाम दिया गया है : धर्म का, और ये रास्ता है पुण्य कमाने का.

इन छोटे छोटे पच्चक्खाण से “जाग्रति” खूब बढ़ती है.

 

मानो कि आप साधारणतया 2 घंटे से पानी पीते हैं. तो आप पच्चक्खाण करने के लिए “योग्य” (eligible) हैं. आप दो घंटे बाद पानी पी भी सकते हैं और नहीं भी.  (Both options are open). दो घंटे बाद यदि आप आधे घंटे और  ना पीना चाहें तो इसे आधे घंटे के लिए और extend  कर सकते हैं. परन्तु शुरू के जो दो घंटे का जो प्रण लिया है, उसे कम नहीं कर सकते यदि आपको पच्चक्खाण सही तरीके से करना  है तो.

आप “खुली” आँखों से भी इस बात का “ध्यान” रख सकें तो आप “ध्यान” करने के अधिकारी बन जाते हैं.
“बंद” आँखों  से (सोते हुवे) तो ऐसे पच्चक्खाण हो भी नहीं सकते.

इससे ये “सिद्ध” हुआ की “ध्यान” करने के लिए “आँखें बंद” करना हरदम आवश्यक नहीं है.

It means it is proved that there is no “necessity” to “close eyes” during  “meditation.”

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...