कहे कलापूर्णसूरी!

1.  नवकार पांच परमेष्ठी का अक्षर-शरीर है.

( नवकार के “अक्षरों ” के बिना हम नवकार का “ध्यान” नहीं कर सकते ).
2. नवकार के जाप में एकाग्रता लाने के लिए अक्षरों को “मन” के “पेन” से लिखें.

3.  हममें “नमस्कार” करने की शक्ति भी “नहीं” है. इसीलिए “नमुत्थुणं” में “नमस्कार हो” ये कहा गया. “मैं” नमस्कार करता हूँ, ये नहीं कहा गया. ऐसा कहने पर “अहंकार” की भावना आ सकती है, इसलिए!
(कितना “गहरा” जैन धर्म है)!

 

4.  “काया  और वाणी” से अनेक गुना “कर्म-क्षय” “मन” करा देता है, कर्म-बंधन भी इतना ही करता है.
(इसलिए “मोह”-राजा का सर्वप्रथम आक्रमण “मन” पर होता है जिस प्रकार शत्रु सर्व प्रथम “हवाई पट्टी” पर आक्रमण करता है).

5. दिन भर में साधू सात बार चैत्यवंदन करते हैं.
(हम कितनी बार करते हैं)?

6.  भक्ति “प्रीति” के बिना नहीं आती.
“(अपना काम बनता है, इसलिए “देव” की भक्ति करते हैं तो उसे क्या कहेंगे? आप के पास हरदम कोई “काम” से ही आये, तो चार दिन बाद आप भी उसे दुत्कारेंगे- चल हट, रोज “माँगने/मतलब से”  आ जाता है).

 

7.  किसी भी क्रिया में “मन” जुड़े तभी उसमें “प्राणों” का संचार होता है. धर्म क्रियाओं में “मन” ना हो, तो वो “निष्फल” होता है.
(सारी “पाप-क्रियाएँ”  “मन” लगाकर की जाती हैं – इसीलिए इसके “फल” भी बड़े “दुष्ट” होते हैं – सिद्ध हुआ कि “मन” से की गयी क्रियाएँ “निष्फल” नहीं जाती -चाहे वो धर्म की हो या अधर्म की).

8.  आपके “प्रतिक्रमण” की “उल्लासरहित क्रिया” को देखकर दूसरे भी कहने लगते हैं : क्या रखा है प्रतिक्रमण में!
(आप धर्म क्रिया जिस प्रकार कर रहे हो, उसके कारण दूसरे धर्म से विमुख हो रहे हैं, तो आप धर्म कर रहो हो या अधर्म)!

9. जब मैं सूरत होता हूँ, तब “सूरजमंडन पार्श्वनाथ” के दर्शन करने अवश्य जाता हूँ.
(इसी प्रतिमा के 50 दिन के विधिवत पूजन से  नौकर “शांति” से अहमदाबाद का शांति “नगरसेठ” बना).

10. व्याख्यान में लोगों को अच्छा लगे, वो नहीं बोलना है. जो भगवान ने कहा है, वही बोलना  सबसे अच्छा है.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...