शत्रुंजय (पालीताणा) महिमा-4

पूर्व भूमिका :भाग-1 से 3 पहले पढ़ें.

सुंगंधित इत्र, सुगन्धित फूल, कल कल बहती नदी-झरने, चांदी, सोना, रत्न वगैरह सभी “पृथ्वीलोक” में भी हम रोज देखते ही हैं.

जैन धर्म के अनुसार जिनेश्वर की भक्ति इन सभी श्रेष्ठ वस्तुओं से ही होती है और उस से और भी विशेष पुण्य होता है जो अंतत: “मोक्ष” तक ले जाता है.

इसीलिए जिन मंदिरों को समवसरण जैसा ही बनाया जाता  है. ताकि मंदिर में दर्शन करने वाले को लगे कि हर जैनी को कितने श्रेष्ठ स्थान पर जाने का विशेषाधिकार मुफ्त में मिला हुआ है. यही कारण है कि जिन प्रतिमा और जिन मंदिर बनाने वालों में “होड़” सी लगी रहती है. “पुण्य” का काम हो और “होड़” ना लगे, हो ही नहीं सकता!

 

समवसरण के बीच में “ईशान दिशा” में प्रभु को विश्राम (Rest) लेने के लिए एक “देवछंद” रचा. रत्न-गढ़ में 27 धनुष जितना ऊँचा एक “मणिपीठ” और उसके अंदर एक विशाल “चैत्यवृक्ष” (Special Tree) रचा. इस “चैत्यवृक्ष” के
नीचे “सूर्य” के बिम्ब जैसा तेजस्वी पादपीठयुक्त सोने का सिंहासन बनाया.  उसके ऊपर तीन छत्र लगाये.
समवसरण के पास एक हज़ार धनुष ऊँचा “मोक्ष” की सीढ़ी जैसा सोने का “धर्मध्वज” बनाया. हर गढ़ के द्वार पर देवता हाथ में छड़ी रखे “प्रतिहारी” (Security Guard) के रूप में खड़े रहे.

देवताओं द्वारा रचे  “9 स्वर्ण-कमल” (Lotus made of Gold) पर पाँव रखते हुए श्री महावीर स्वामी ने “समवसरण” में प्रवेश किया.
सभी “मोक्षार्थी” (those interested in getting “moksh)” प्रभु की स्तुति करने लगे. उसी समय सोने के कमल में रहा हुवा” पाप का नाश करने वाला “धर्मचक्र” प्रभु के सामने प्रकट हुआ.

 

 

“धर्मचक्र” के साथ भगवान के इस स्वरुप का ध्यान करने का मंत्र है  :

ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं अर्हं श्री धर्मचक्रिणे अर्हते नमः

(हर मंदिर पर आप ये “कोरनी” (sculpture) अवश्य देखेंगे स्थान के अभाव में कुछ मंदिरों में ये नहीं होता).

तब प्रभु ने  “चैत्यवृक्ष” के पास आकर उसकी प्रदक्षिणा की. (हम भी मंदिर की “भमती” में ३ प्रदक्षिणा देते ही हैं).
फिर पूर्व दिशा की तरफ आकर “नमो तित्थस्स” कहकर प्रभु सिहांसन पर विराजे. तुरंतही व्यन्तरदेवों ने प्रभु के तीन रूप रचकर बाकी की ३ दिशाओं में प्रकट किये. ये भगवान का अतिशय (privilege)  है.

 

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...