“तीसरी आँख”

सम्यक्त्त्व के पहले भव में श्री पार्श्वनाथ भगवान् 
(Lord Parshwanath) का “जीव (soul)” 
मरते समय (जीवन के “अंतिम समय”) में
अपने भाई के प्रति क्रोध को नहीं रोक पाया,
उसी भाई ने आगे आने वाले 9 भव तक उनके साथ बैर नहीं छोड़ा.
अंतिम समय में “कमठ” बनकर भी पीछे लगा रहा.
अगले भव (Next Birth) का “आयुष्य बंध” 
इस जीवन के “हर तीसरे भाग” (3rd part of this Life)
में हो सकता है.
वो भी विशिषत: “पर्व तिथियों” पर.

यदि कुल उम्र 75 वर्ष की है तो
25, 50 या 75 वर्ष में आयुष्य बंध होता है.
यदि ऐसा नहीं भी होता है
तो जीवन के “अंतिम समय” में
अगले भव का आयुष्य-बंध होता है.
इसीलिए “जीवन” के “अंतिम समय” में
“धर्म-आराधना” या “धर्म श्रवण” बड़ा महत्त्वपूर्ण होता है.

चूँकि “जीवन” का ठिकाना नहीं
और हमें ये पता नहीं कि
हमारे जीवन का “तीसरा” भाग कौनसा है.

इसलिए रोज कुछ तो धर्म-क्रिया
या कम से कम “धर्म श्रवण” करना चाहिए.
कम से कम “अंतिम समय” में
छठी इंद्रिय (Sixth Sense) काम करने लगे.

विशेष:
कमठ की तरह आपका अति शत्रु कभी ना कभी आपका “भाई” रहा होगा,
जरा ये विचार कर लें.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...