“नवकार” चिंतन : भाग 2

प्रश्न 5 :
नवकार में मात्र “पाप” नष्ट करने की बात है. क्या “पापी” ही नवकार गुणें?

उत्तर:
१. “पाप” करते समय कभी भी कोई इस बात का “विचार” नहीं करता कि
“मैं पाप कर रहा हूँ.”
उसका “फल” क्या होगा, इसकी तो “चिंता” वो “प्रत्यक्ष” दिखने वाले फल पर ही करता है.

उदाहरण :
१. एक “चोर” जो रोज चोरी करने का प्रयास करता है और कई बार उसमें सफल भी होता है,
तो भीतर ही भीतर “खुश” भी होता है. चोरी करनी पड़ रही है या उसका उसको चोरी करने का पश्चात्ताप  है, वो बातें तो वो पकड़े  जाने पर ही बोलता है.

 

प्रश्न 6 :
किये हुए “पाप” नष्ट कैसे  हो सकते हैं?  “जैन धर्म” तो कर्म भोगना पड़ेगा, ऐसी बात करता है.

उत्तर:
यदि किये हुए “पाप” नष्ट नहीं हो सकते तो फिर “धर्म” की बात ही करने की “ज्यादा” जरूरत नहीं है.
“नवकार” “पाप” नष्ट करता है, और जो “पाप” नष्ट नहीं हो सकते, उन्हें “भोगने” की “शक्ति” प्रदान करता है.

आपने देखा होगा की कई कैंसर पीड़ित व्यक्ति भी “रोग” को ऐसे भोग लेते हैं,
मानो सर्दी-बुखार जैसा रोग हो.

“भगवान महावीर” के कान मैं कीले  ठोके गए. वो कर्म उन्होंने भोग भी लिया.

पर वो कर्म उस समय उदय मैं आया जब उनके “शरीर” का “बल” अतुल था, इस कारण उनके “प्राण” नहीं गए.

जबकि जिस जन्म में उन्होंने अन्य के कान में “सीसा” डलवाया था, वो तो “मर” ही गया था.

 

विशेष:
भगवान महावीर के उस कर्म को, जो उन्होंने “त्रिपृष्ठ वासुदेव” के भव में किया था, उसे हम आज भी “याद” करते हैं. इसका मतलब जो “कर्म” किया था, उसे उन्होंने “भोग” भी लिए, फिर भी उसकी “राख” (अवशेष) आज भी मौजूद है. और ये “स्मृति” कायम रहेगी.

इसलिए कर्म (जैसे चोरी, धोखाधड़ी इत्यादि) करते समय ये “ध्यान” रखना चाहिए कि उसे भोगने के बाद भी “बदनामी” तो रहेगी ही चाहे जेल कि सजा पूरी हो चुकी हो.

आगे के लिए पढ़ें:
नवकार चिंतन : भाग 3

फोटो:

भगवान महावीर

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...