नवकार मंत्र की प्रभावकता : भाग 5

पहले नवकार मंत्र की प्रभावकता भाग 1-4 पढ़ें.

नवकार अनादि काल से चल रहा है.
इसके रचयिता (author) को बताना ऐसा ही है कि पहले कौन -अंडा या मुर्गी?

नवकार में सीधी बात “मोक्ष” की है, क्योंकि नवकार गुणने  से पाप नष्ट होते है, पर कब?

जब मन में “सभी पांच परमेष्ठी” को नमस्कार करने का भाव हो तब.

“मोक्ष” तभी प्राप्त होगा, जब हमारे मन में किसी के “भी” प्रति राग-द्वेष न रहे. यानि सभी इच्छाएं ना रहे.

 

अरे! मोक्ष प्राप्त करने की भी इच्छा ना रहे, तब!

मतलब “आत्मा” “है,” – इसी पर समाधि लगे तब!

“पूरे” “नव स्मरण” से भी अधिक प्रभावशाली “नवकार” है, इसमें कोई शंका नहीं है.

नव-स्मरण की रचना भी “नवकार” से ही हुई है. जब सारे 14 पूर्वों का सार ही नवकार है, तो फिर “नव-स्मरण” ना हो, हो ही नहीं सकता.

पर “नव-स्मरण” Specific Treatment है.

“नव-स्मरण” में पहले बात “शरीर” पर आये उपसर्ग, कष्ट, व्याधि इत्यादि दूर करने की और मन में प्रसन्नता लाने की  है जिससे “श्रावक” “शुद्ध ” मन से “मोक्ष” मार्ग में आगे बढ़ सके. इसलिए नवस्मरण में भी लक्ष्य तो “भव-पार” करने का ही है. जैन धर्म में जितनी भी “साधनाएं” हैं उनका पहला और अंतिम लक्ष्य  “मोक्ष” की ओर ही ले जाना है.

 

सांसारिक सुख तो बीच के अच्छी सुविधा वाले स्टेशन है, सांसारिक दुःख मानो इंजन बिगड़ गया हो और गाडी रुकी हुई हो. “नव-स्मरण” दूसरे रूट से “मोक्ष” मार्ग पकड़ता है. यदि कोई समझे की ये रास्ता तो बहुत बढ़िया है, नया है, और फिर नवकार पर ज्यादा श्रद्धा ना रखे, ना गिनना चाहे, तो समझें कि “मूल” छोड़ दिया और “फल” की और ताकने लगे. (“मूल “Roots” के बिना फल कैसे लगेंगे)?

क्योंकि जैन धर्म का मूल तो नवकार ही है.

“मंगलाणं च सव्वेसिं, पढमं हवई मंगलं ”
इन दो पदों में “मंगल” शब्द दो बार आया है.

 

Check Point :
यदि नवकार से बढ़कर कुछ हो, तो नवकार के सबसे प्रथम मंगल की बात ही असत्य हो जाती है. ये हो नहीं सकता. क्योंकि जैन धर्म शुरू ही नवकार से होता है, और पूरा भी वहीँ पर होता है. (इस सम्बन्ध में पहले वाली पोस्ट्स पढ़ें. – नवकार मंत्र की प्रभावकता भाग 1-4).

“नव-स्मरण” में भी पहला “स्मरण” तो नवकार का ही है.

Sixer:

“नव-स्मरण” में बात आती है – “स्मरण” की!
बार बार “स्मरण” (याद आना /करना) उसी का होता है, जिस पर बहुत प्रेम हो!

क्या हमें “नवकार” और “नव-स्मरण” पर भी उतना ही प्रेम है?

 

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...