महावीर मंत्र साधना अनुभव – 2

महावीर मंत्र साधना अनुभव – 2

[08/05, 15:05] Secunderabad:

आज देव गुरु कृपा से महावीर साधना सानंद संपन्न हुई पंच कल्याणक भाव यात्रा करते करते धवल प्रकाश पुंज के दर्शन हुए. तीन दिन से बार बार वृक्ष की छवि उभरती हुई दिखाई दी आपका बहुत बहुत आभार इस अविस्मरणीय साधना से जोड़ने के लिए?

आर्त ध्यान रौद्र ध्यान जो सतत चल रहे थे विराम चिह्न लगा है.

——-

आज मेरी साधना पूरी हुई. मैंने पहली बार कोई साधना की है तो पता चला कि इतना भी आसान नही है पहले दो दिन तो ठीक से जाप हुवे पर बाद के तीन दिनों में तो बहुत मुश्किल से पूरी हुई. आंख बंद करने के बाद खुलती ही नही थी। पांच माला करने में मुझे सवा से डेढ़ घंटे लगते थे।कल की पांचवीं माला में एक बड़ी सी ज्योति ऊपर उठी उसके साथ कई ज्योतियां ऊपर उठी।आज मुझे एक सिंह दिखाई दिया।एक अनुभव मुझे पांचो दिन हुआ। पांचवीं माला में एक प्रकार के सन्नाटे और शून्यता का एहसास। आज जाप पूर्ण होते ही सब कुछ हल्का हल्का हो गया और मन में प्रसन्नता हुई।
आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

-दिल्ली

———

[08/05, 11:51]

Bhai saaa Jab se sadhna shuru hui hai pata nahi kitchen ka bhandhar aise lag raha hai kaha se plus ho raha hai sab kuch banane ke baad bhi utna hi sab kuch.sabse ashryayukt yeh ki 10kilo atta pata nahi kab tak or chalega

18may ko jabki 2month ho jayenge

– Faridabad
———–

जय जिनेन्द्र सर
बहुत अच्छी तरह से साधना हुई कल इनको क्षीर सागर में जहाज में प्रभु प्रतिमाजी के दर्शन हुए ,आज गाय का नवजात बछड़ा ,शेर दिखा व पर्वत! मुझे आज
बहुत पुरानी बहुत बड़ी प्रतिमा दिखी व सिहासन दिखा बहुत भाव पूर्वक साधना रही 4व5 कल्याणक के बारे में सोचते ही मेरे आंसूं झलक जाते प्रभु के ऊपर अतिशय का दृश्य सामने दिखता पर प्रभु महावीर से ऐसा जुड़ाव मैंने कभी नही देखा अपने अंदर आप की अनुमोदना की आप ने हमे जोड़ा इस साधना से ??????

– Ratlam

? महावीर मेरा पंथ ?

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...