thoughs of meditation, meditation in jainism

“मौन” में उत्तर प्राप्त करने वाले “प्रश्न”

“मौन” रहने की महत्ता हमने अभी तक समझी नहीं है.
बहुत से प्रश्न मन में खड़े होते हैं परन्तु “मौन” रखने से उन पर चिंतन किया जाता है.
रिजल्ट: उत्तर अपने आप मिलते हैं.
विशेष: सभी के लिए सभी प्रश्नों के उत्तर एक समान नहीं होते.

 

मन में एक विचार आता है:
मैं कौन होता हूँ प्रश्न करने वाला,
फिर तुरंत दूसरा विचार आता है:
“जीवन” के “सही उत्तर” ढूंढने के लिए
“कुछ प्रश्न” तो करने ही होंगे.

 

अब आगे पढ़ें:

प्रश्न:
मेरी उम्र अब कितनी रही,
क्या कभी इस बात पर चिंतन किया है ?
(मेरी नहीं, आपकी) 🙂
कृपया उत्तर दें.

 

प्रश्न:
वर्षों से “गुरु” का सान्निध्य प्राप्त होने पर
अब तक आपको क्या “प्राप्त” हो पाया है?
कृपया उत्तर दें.

प्रश्न:

व्यक्ति “शब्द” की “गहराई” में कब जाता है ?
कृपया उत्तर दें.

 

प्रश्न:
आज तक जो कर्म किये हैं,
क्या वो “दूसरे” के लिए अपनाने लायक हैं?
(हिंट: मानो “वही” कर्म दूसरे ने किये हैं तो आप उसे कैसा समझेंगे).

प्रश्न:
अपना “जीवन”
“एक” से
“शुरू” होता है
या
“शून्य” से?
कृपया उत्तर दें

 

प्रश्न:
“धर्म का मार्ग” क्या है?
क्या हम उसी “मार्ग” पर चल पा रहे हैं?
उत्तर मात्र एक लाइन में आना चाहिए.

प्रश्न:
“अपने लिए” सबसे महत्त्वपूर्ण बात कौनसी है?
“उस पर” आज तक कितना समय दिया है?

(बहुत चिंतन करके उत्तर लिखें-
इसका उत्तर दिए बिना आपका जीवन व्यर्थ है –
यदि महत्त्वपूर्ण बात ही अभी तक पता ना हो)

 

प्रश्न:
मृत्यु होने पर
“आत्मा” मुक्त होती है
या “शरीर?”
(काफी “ध्यान” लगा कर उत्तर देवें – उत्तर गलत होने की पूरी सम्भावना है )

अपनी उन्नति के लिए क्या अपने बारे में “प्रश्न” करना जरूरी है?
(उत्तर कौन देगा)?

 

More Stories
purusharth,purushartha
पुण्य या पुरुषार्थ?
error: Content is protected !!