वसीयत “आत्मा” की

हर व्यक्ति मरते दम तक कुछ न कुछ “पाने” की सोचता रहता है
या फिर अपने “मन” में जो है, वो “करने” की सोचता रहता है.

मरने से पहले कई बार पूर्वाभास होता है या फिर “उम्र” का भय उत्पन्न  होता है कि अब “जाने वाला” हूँ (मेरे पिताजी 72 की उम्र में चल बसे  थे, मुझे तो 74 आ गए).

 

“अपने” रिश्तेदारों को अपनी “कमाई” या “पैतृक” संपत्ति जो खुद के हिस्से में “आई,”
उसका “बंटवारा” अपनी “इच्छा” से करना चाहता है.
वसीयत करने का एक उद्देश्य ये भी होता है कि आगे फिर झगड़ा ना हो
(ज्यादातर किस्सों में ऐसे व्यक्तियों  का अपने ही भाइयों से जीवन भर झगड़ा चलता रहा है).

कुछ लोग जीवन के अंत से पहले उन रिश्तेदारों  को “सबक” सिखाना चाहते हैं
जिंहोने ढलती उम्र में उनकी नहीं सुनी.
इसलिए अपनी वसीयत में  उन्हें कुछ भी “नहीं” देना का प्रावधान करते है.

 

यहाँ तक जो बात हुई, वो शरीर के संबंधों तक हुई.
जीवित अवस्था में “मन” की हुई
इसलिए जैसा “मन” में आया,
वैसा प्रावधान अपनी वसीयत में किया.

वसीयत के अंतिम पैराग्राफ में वो ये अवश्य लिखता है
कि ये मेरी पहली या अंतिम वसीयत है
और मैंने इसे पूरे “होश-हवाश” में लिखी है.
किसी ने किसी तरह का दबाव नहीं किया है.

 

ये बात बताती है कि उसमें “चेतना” है कि क्या करना चाहिए – अपने मन की शांति के लिए.

अब बात आती है “आत्मा” की.
मरने के बाद “आत्मा” को किस गति में ले जाना है,
ये “चेतना” विरलों में ही होती है.

जीवन भर व्याख्यान में  “आत्मा –  आत्मा” शब्द लाखों बार सुना
पर उसकी “गूँज” वहां तक नहीं पहुँच पायी
क्योंकि “दरवाजा” खुद ने ही “बंद”  कर रखा था
और “खोलने” की इच्छा भी नहीं थी जबकि
गुरुओं ने खूब “खटखटाया.”

 

मन में कई बार सोचा : गुरुओं का तो काम ही यही है.

अब  जिस चीज का जीवन भर “अभ्यास” ही ना किया हो,
तो “अंत” समय में याद कैसे आ सकता है?

इसलिए जीवन के अंतिम क्षणों में भी “शान्तिदास” अपने को “आत्म-तत्त्व” से दूर रखकर
“शान्तिदास” ही समझता है और उसी अनुसार सारी व्यवस्था करने की कोशिश करता है.

पूरी पोस्ट में कहीं कहीं बहुत “घुमाव” आया है.
बात ही “घुमाने” की है.

 

खुद की “वसीयत” तो बना सकता है
कुछ “सुरक्षा और सुविधा” दूसरों के “हक़” में दे सकता है,
पर खुद को “किसकी शरण” में जाना है
क्या इसकी “वसीयत” बनाने का विचार आया है?

इसका “हक़” उसे इस “मनुष्य” जन्म में नहीं मिलेगा तो कब मिलेगा!

विशेष:
जिनकी उम्र फिफ्टी प्लस है, वो पोस्ट को आराम से पढ़ें और फिर चिंतन करें.

फोटो: दुनिया को “जीवन जीने” का “ज्ञान” देने वाले  “ओशो” के कुछ  followers
संपत्ति के लिए अपनी  “आत्मा” को “गिरवी” रखने के लिए भी तैयार हैं.

Advertisement

spot_img

जैन धर्म को शुद्ध...

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार...

भक्ति की शक्ति तभी...

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़...

किसी ने पूछा कि...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस...

अरिहंत उपासना – श्री...

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी...

आत्मा से विमुख हर...

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के...

जैन धर्म में “तापसी”...

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया...

जैन धर्म को शुद्ध रूप से कैसे अपनाएं?

केवली कहते हैं कि 1 लाख मुख से नवकार की महिमा कही जाए तो भी पूरी नहीं हो सकेगी.आज? कितने व्याख्यान सुने नवकार की महिमा...

भक्ति की शक्ति तभी आती है जब सर्वज्ञ भगवान की महिमा पर विश्वास हो

जैन मंत्रों का प्रभाव जो पहले से धर्म से जुड़ गए हैं उन्हें परिणाम अपने आप मिलता है, जो परिणाम के लिए धर्म क्रिया करते...

किसी ने पूछा कि “तप” करने से कर्म कटते हैं. उस से “आत्मा” प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले...

जिज्ञासा: किसी ने पूछा कि "तप" करने से कर्म कटते हैं. उस से "आत्मा" प्रकाशित होती है. तो फिर उसका पता कैसे चले कि आत्मा हलकी हुई है या कर्म...

अरिहंत उपासना – श्री वासुपूज्य स्वामी यंत्र

अरिहंत उपासनापूर्व कृत कर्मों का नाश, सुखी जीवन और मोक्ष भी निश्चित!कन्द मूल और रात्रि भोजन का त्याग करना, रोज नवकारसी करना.वासु पूज्य स्वामी की प्रतिमा या...

आत्मा से विमुख हर साधना “मिथ्यात्त्व” है

जैनों के कुछ संप्रदाय "देव-देवी" की सहायता लेने के पक्ष में नहीं हैं. उनकी मान्यता के अनुसार ये "मिथ्यात्त्व" है. (आत्मा से विमुख हर साधना "मिथ्यात्त्व"...

जैन धर्म में “तापसी” के “तप” को बहुत “हल्का” बताया गया है

जैन धर्म में "तापसी" के "तप" को बहुत "हल्का" बताया गया हैक्योंकि उसमें "अज्ञानता" है, सिर्फ तप से तप रहा है.( ऐसे तप से उसमें भयंकर...

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य अरिहंत की शरण लेने से मिलता है

जैन वो हैं जिनके चेहरे से भी पुण्य झलकता है, ये पुण्य 🌹अरिहंत की शरण🌹 लेने से मिलता है. गर्भ से ही जैन सूत्रों और मंत्रों...

Jainmantras.com द्वारा प्रसारित अकेले लघु शांति ने हज़ारों लोगों को जैन धर्म के प्रति जाग्रति दी है और चैन की नींद भी!

Jainmantras.com ग्रुप की शुरुआत में सभी को पांच सूत्र रोज करने को कहा है, ताकि श्रावक अपना जीवन सुखमय और धर्ममय कर सकें.इन सबके...

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए

श्रावकों को इधर उधर भटकना बंद करके जैन मंत्रों पर पूर्ण विश्वास रखना चाहिए.ये मनुष्य भव ही है जिसमें उत्कृष्ट साधना करते हुवे जीवन सुख...