mithyatva

मिथ्यात्व

“वो सब विषय जिनका आत्मा से
किसी भी प्रकार का सम्बन्ध नहीं है,
उन सब पर “ध्यान” लगाना “मिथ्यात्व” है.
 
– ये बात कही है “आत्म-मनीषी” श्री “मनीष सागर जी” ने!
 
तीन वर्ष पूर्व सूरत में कहे गए
इनके इतने “सारगर्भित वचनों” ने
मुझे “पूरी तरह” “हिला” डाला.
 
जो जो व्यक्ति अपने आप को “धार्मिक” समझते हों,
वो अपने बारे में दोबारा चिंतन कर लें.
 
जैन धर्म में तत्त्व रूप से वो ही स्वीकार्य है
जो “आत्मा के उत्थान” के लिए किया जाए.
 
जो जो व्यक्ति
श्री नाकोड़ा भैरव देव,
श्री घंटाकर्ण महावीर,
श्री माणिभद्र वीर,
श्री भोमिया जी,
श्री पद्मावती देवी,
श्री चक्रेश्वरी देवी,
श्री अम्बिका देवी,
श्री महालक्ष्मी इत्यादि को
“अपने सांसारिक कार्यों” की सिद्धि के लिए पूजते हैं,
वो सब मिथ्यात्वी हैं.
 
विशेष:
जो इनको इसलिए पूजते हैं कि हमारे सांसारिक कार्य हमें जिनेश्वर भगवान् की भक्ति में बाधा ना पहुंचाए,
वो सब व्यक्ति “सम्यक्तत्वधारी” हैं.
(ये अधिष्ठायक देव और देवी स्वयं तो समकितधारी ही हैं).
इसका विस्तृत खुलासा jainmantras.com की पब्लिश होने वाली पुस्तक
“जैनों की समृद्धि के रहस्य” नामक पुस्तक में किया जाएगा.
More Stories
भव आलोचना
error: Content is protected !!