meditation in jainism, meditation by jainmantras

मेरा चिंतन

जीव और जीवन
सामान्य रूप से जन्म और मृत्यु के बीच के काल को
“जीवन” कहा जाता है
“मृत्यु” जीवन का “अंतिम” सत्य कहा जाता है.

 

तो फिर “प्रथम” सत्य क्या है?
“जन्म” लेना?

जन्म तो एक पशु भी लेता है और एक मानव भी.
पशु जिन्दा रहते हुवे “पशु” से आगे नहीं बढ़ सकता.
ज्यादातर मनुष्यों का भी यही “हाल” है.
“जीव” का “प्रथम” और “अंतिम” सत्य “जन्म और मरण नहीं है.

 

“जीव” का प्रथम और अंतिम सत्य “मोक्ष” है.

जो इसे जानने का प्रयत्न करता है,
उस दिशा में आगे बढ़ता है,
वही जीवन जीता है.

जो ये नहीं करते
वो सब स्वयं को “मूर्ख” बनाते हुवे
“बुद्धिमान” होने का “ढोंग” करते हैं.

More Stories
“खुद” की “बली” से बचो !
error: Content is protected !!