विविध

रोग निवारण :हिन्दू विधि और जैन विधि

पूरी पोस्ट पढ़नाहिंदू विधि के अनुसार रोग निवारण(कुछ पारंपरिक उपाय) :जिस घर में जब कोई रोग आ जाता है तो उस रोगी...

भ्रम क्यों नहीं टूटता?

भ्रम क्यों नहीं टूटता?सत्य समझ में आ जाने के बाद भी अधिकतर किस्सों में भ्रम इसलिए नहीं टूटता क्योंकि जग में हँसी...

उन्नति किसकी? गुरु की या शिष्य की?

"गुरु" शिष्य की उन्नति चाहता है. "प्रकट" में भले शिष्य के लिए "प्रायश्चित्त" की बात करे परंतु...

महाभारत में आपका पात्र

"महाभारत" अच्छा लगता है!बहुत अच्छी बात है.. पर क्या बनना चाहोगे? श्री कृष्ण - युद्घ कौशल...

“धर्म सम्प्रदाय” से “चिपक” कर रहना “मुक्ति” में बाधक है.

"व्यक्ति" जब किसी सीमा में "बंध" जाता है तब अपना "विकास" खो देता है. यदि "अपना" "व्यक्तित्त्व" नहीं खोना है तो हमें किसी भी "धर्म-सम्प्रदाय" से नहीं...
stop business loss with jainmantras

बिज़नस का पैसा रुका हुआ है, मैं किस मंत्र का जाप करू?- Part I

प्रश्न: बिज़नस का पैसा रुका हुआ है, मैं किस मंत्र का जाप करू? उत्तर: बिज़नेस में पैसा रुकने के कई कारण होते हैं.   १....

क्या समय बदल गया है?

ये कहा जाता है कि अब समय "बदल" गया है. "समय" तो आज से नहीं, "हर समय" बदलता है. हर "क्षण" बदलता है. हम बदलते हैं हमारी "सोच" के कारण ! यदि...

“जैन” मात्र एक “धर्म” नहीं, “ब्रांड” है.

"जैन" मात्र एक "धर्म" नहीं, "ब्रांड" है. "जैन" होने का मतलब "भाल" पर "तिलक" होना. (Trademark जैसा)! "जैन" होने का मतलब "आलू-प्याज" ना खाने वाले. (दूसरे भी यही मानते थे). "जैन" होने...

मनुष्य लोक और देवलोक

मनुष्य लोक और देवलोक की आपस में कोई तुलना नहीं हो सकती. सोने के सिंहासन भले देवलोक में हैं, मनुष्य लोक में भी सोने का प्रचलन...

भूत-प्रेत के बारे में रोचक जानकारी -1

सामान्यतया भूतों की बातें डरावनी होती हैं. परन्तु भूत-प्रेत सभी एक से नहीं होते. इनमें भी अनेक जातियां होती हैं. स्त्री-पुरुष के भेद इनमें भी होते हैं. १. भूत...
error: Content is protected !!