Home विविध

विविध

भव आलोचना

भव आलोचना- स्वयं के गुरु बने रहने का प्रोपेगैंडा (जीवन भर उन्हें ही याद करते रहना)कुछ गुरुओं द्वारा भरी सभा में श्रावकों को ये...

Covid 19 के भय से मुक्ति

बार बार कहता हूं - ये मनुष्य जन्म बचा लो! ------------------------------------------------------कल सवेरे आंख खुली देखा तो 5:20 हुवे थे.कुछ ही देर में Qatar से एक...

जैनों की तपस्या कैसी हो?

बिना विवेक के तपस्या करने वालों के लिए ये सूत्र आँखें खोलने जैसा है.अपने शरीर की शक्ति से ऊपर तपस्या करना, अविवेक है....

सामायिक एक श्रावक की !

सामायिक एक श्रावक की !सामायिक करते समय क्या श्रावक मोबाइल का प्रयोग करता है? सामायिक करते समय क्या श्रावक बिज़नेस और घर की बात करता...

भजन कौन-से गाएं?

बहुत ही महत्वपूर्ण-----------------------जय जिनेन्द्र ?कष्ट, संकट,दुर्भाग्य मिटे,संकट कटे,पीरा मिटे,दरिद्र मिटे...इस तरह के शब्द जिस किसी स्तवन्,भजन आदि में आते हैं ,हमें नहीं...

भ्रम क्यों नहीं टूटता?

भ्रम क्यों नहीं टूटता?सत्य समझ में आ जाने के बाद भी अधिकतर किस्सों में भ्रम इसलिए नहीं टूटता क्योंकि जग में हँसी...

और भी घूमना बाकी है?

और भी घूमना बाकी है?पढ़ कर विचार करना. हम सभी "जीव" अनन्त काल से भ्रमण करते आये हैं. "भ्रमण" करने की...

अभयदयाणं

अभयदयाणंशत्रु का भयमित्र और रिश्तेदारों के रूठने का भयमाता-पिता के अस्वस्थ होने का भयबच्चों के बिगड़ जाने...

एक लेखक का मौन

लिखते समय एक लेखकमौन धारण किए दिखता है.परन्तु वास्तव में तो वोविचारों के शस्त्रों सेअभिमन्यु की तरह घिरा...

भ्रम क्यों नहीं टूटता?

भ्रम क्यों नहीं टूटता?सत्य समझ में आ जाने के बाद भी अधिकतर किस्सों में भ्रम इसलिए नहीं टूटता क्योंकि जग में हँसी...
error: Content is protected !!